मित्रों आपको भी और हमें भी अपनी परम्पराओं पर गर्व है। आज हम आपके बीच गुंजन डंगवाल और योगेश उनियाल की वाणी में सुमंत पंवार के संगीत से सजा “सयाणु वीर सिंघ रौत” गीत की प्रस्तुति कर रहे हैं, । यह गीत हमारी उस विलुप्त परम्परा का हिस्सा है, जब हम सब लोग घर के गुठ्यार की बांदणी में बैठे रहते थे और सामने होता था मनोरंजन का तूफ़ान। लोक गायकी की विशिष्ट शैली, ढोलक वादन का अप्रतिम अंदाज। चैत के महीने में तो कभी-कभी बद्दी-बद्दीण की जोड़ी के साथ-साथ ढोल-दमौं और मसक-बीन वादक भी एक ही चौक में संगीत सुरो का मिलान करते हुए सयाणा जी का गुणगान करते थे। इस गीत के लिए ढोलक वादन एक चुनौती था, किन्तु गढ़वाली गीतों के मशहूर ढोलक वादक रणजीत सिंह ने अपनी प्रतिभा के साथ पूरा न्याय किया। नयी पीढ़ी के ढोलक वादक सुमित गुसाईं (जानेमाने कलाकार श्री पदम् गुसाईं के सुपुत्र) ने जैम्बे से ढोल के सुर दिए जो प्रशंसा के योग्य है। इस शैली में गायन भी एक कठिन विधा है, किन्तु योगेश उनियाल और गुंजन डंगवाल ने इसे सहजता से निभाया है। कोटी गाँव के निवासी डॉ वीर सिंह रावत का सहयोग हेतु आभार प्रकट करते हुए आपकी समालोचना की प्रतीक्षा में MGV DIGITAL
This Audio (Edited Video) Song is a Garhwali Folk Song sung by Gunjan Dangwal & Yogesh Uniyal with the music of Sumant Panwar. Song is Written by shree Banwari lal & shrimati Ashrupi Devi.
SINGER – Gunjan Dangwal & Yogesh Uniyal
MUSIC DIRECTOR – Sumant Panwar
Written By- shree Banwari lal & shrimati Ashrupi Devi.
MUSIC LABEL – MGV Digital

SUBSCRIBE MGV Digital channel for unlimited entertainment
https://www.youtube.com/MGVDigital

Like us on Facebook
https://www.facebook.com/Mgv-Digital-894596327230556/?ref=bookmarks

FOR LATEST UPDATES:
“If you like this, Don’t forget to Share and leave your comments”
Visit Our Channel For More Videos:
Note: Please do not copy or upload without the permission of MGV DIGITAL

Watch the video